Wednesday, October 7, 2015

[gita-talk] एक ही है या अनेक हैं?

 

Shree Hari   Ram  Ram  

This brings closure to this topic.   Thank you,    

Gita Talk Group Moderators,   Ram Ram 

---------------------------------------------------------------------
परमात्मा किसे कहा गया है? 
ब्रह्म किसे कहा गया है? 
परमात्मामें ब्रह्म है या ब्रह्ममें परमात्मा है?
कहा है : परमात्मा ही था, परमात्मा ही है, परमात्मा ही रहेगा। परमात्माके सिवा न कभी कुछ था, न अभी है, न कभी होगा और न ही कभी हो सकता ही है।  
बहुत सुनते आये हैं : अहं ब्रह्मास्मि। 
परमात्माके रहते यह ब्रह्म कहाँसे आ टपका?
परमात्माके रहते (यह अलगसे) ब्रह्मको माननेकी जरूरत ही क्या है? 
क्यों सीधी-सरल बात (परमात्मा है) को एक ब्रह्म लाकर इतना उलझाया गया है?
कृपया समझाइयेगा। 
सविनय,
साधक 

===================================

हरि शरणम् ,
समझ में नहीं आ रहा है कि यह प्रश्न है या शिकायत ! शायद, वेद का एक  प्रख्यात मन्त्र-वाक्य "एकं सद्विप्रा बहुधा वदन्ति" [ ऋग्वेद - 1.164.46 ] तथा  भागवद् का एक ही तत्त्व को "अद्वय ज्ञान", "ब्रह्म", "परमात्मा" और "भगवान" शब्दों द्वारा संबोधन [  भागवद् - 1.2.11] आपको संतुष्ट कर सके ! 
सविनय 
नीतीश 

--------------------------------------------------------------------------------------

राम राम बड़े भैया!
क्या सुन्दर बात कही है : जैसे आप (साधक) टपक गये, वैसे ही ब्रह्म टपक गये। 
इससे साधक समझा : जैसे 'आप', 'मैं', 'तुम', 'यह', 'वह' शब्दमात्र (स्वतन्त्र अस्तित्त्व नहीं है) हैं, वैसे ही 'ब्रह्म' भी एक शब्दमात्र है। 
गीता-वार्ता समन्वयक महोदयसे निवेदन है कि कृपया इस वार्ता-सूत्रका समापन करें। 
सविनय,
साधक 

-----------------------------------------------------------

There is "atma". Ultimately, there is only One. But we see division. So, we use term "paramatma" to denote that One Absolute. 

Same way, there is brahma which denotes atma and also, all pervading substance in illusory inert matter. Then, there is "parambrahma" which denotes that one Absolute.

When illusion goes away, then you will realize that atma, paramatma, brahma, and parambrahma are One and the same. 

g a mittal

--------------------------------------------------------------------------------------



हरि ॐ

सविनयजी महाराज - जैसे परमात्मा के रहते आप टपक गये ना, वैसे  ही परमात्मा के रहते ब्रह्म टपक गया जी !!!

जय श्री कृष्ण 

व्यास एन बी 



----------------------------------------------------------------------




__._,_.___

Posted by: Sadhak <sadhak_insight@yahoo.com>
Reply via web post Reply to sender Reply to group Start a New Topic Messages in this topic (3)
All past 4925+ messages are accessible and searchable at http://groups.yahoo.com/group/gita-talk/

28,000+ sadhakas

A list of all topics discussed in 2009 along with their links are at http://groups.yahoo.com/group/gita-talk/message/3189

.

__,_._,___

No comments: