Tuesday, September 8, 2015

[gita-talk] Fw: अवतार

 



संसारको उसका (परमात्माका) आदि अवतार कहा गया है। आदिका शब्दार्थ लें तो 
संसार उसका (परमात्माका) पहला अवतार हुआ। इस चतुर्युगमें कुल तेईस अवतार 
बताये गये हैं जिनमें संसार पहला अवतार है जो अभी भी है (विलुप्त नहीं हुआ है),
जबकि शेष बाईस अवतारोंमेंसे एक भी (आज) नजर नहीं आता। क्या यह अटपटा 
नहीं लगता कि आदि अवतार तो विद्यमान है और उसके बादके सभी अवतार पूरी 
तरह विलुप्त हैं? यदि विलुप्त नहीं हैं तो नजर क्यों नहीं आते? यदि विलुप्त हैं तो 
क्या वे सभी (जिनमें सर्वश्री राम, कृष्ण, बुद्ध आदि भी गिने गये हैं) इस संसारसे 
(आदि अवतार) किसी तरह कमजोर थे जो उन्हें (अगला अवतार होनेके पहले ही)
विलुप्त होना पड़ा? किन्हीं दो अवतारोंके (प्राणी रूपमें) समकालीन होनेका वर्णन 
साधकको ज्ञात नहीं है। 
कृपया समाधान दें। 
सविनय,
साधक  

===================================

यदि पता नहीं होनेको भूलना कहते हैं तो बात अलग है। 
सविनय,
साधक 

-------------------------------------------------------------

sayon kk जी! 
आपकी बात पढ़ी। त्रेता और द्वापर युगोंमें रहनेवाले अवतार परशुराम इस 
कलियुगमें क्यों नहीं हैं जबकि इसी युगमें उनकी बहुत जरूरत है?
किसी ग्रंथमें इसका उत्तर हो तो कृपया अवश्य बतायें। 
सविनय,
साधक 

------------------------------------------------------------------


>> संसारको उसका (परमात्माका) आदि अवतार कहा गया है। 

Please understand above statement as described in Bhagavatam 11/13/24. "Within this world, whatever is perceived by the mind, speech, eyes or other senses is Me alone and nothing besides Me. All of you please understand this by a straightforward analysis of the facts."

>> इस चतुर्युगमें कुल तेईस अवतार बताये गये हैं जिनमें संसार पहला अवतार है जो अभी भी है (विलुप्त नहीं हुआ है),

I think you should read Bhagavatam and get facts from Bhagavatam. Please especially read 3rd chapter of 1st canto.

>>  किन्हीं दो अवतारोंके (प्राणी रूपमें) समकालीन होनेका वर्णन  साधकको ज्ञात नहीं है। 

Ram and Parashuram were at the same time.

Bhagavatam 1.3.8 describes Narada as avatar. He is supposed to be still existing. He does not have human form. He is son of Brahma and part of Brahma-loka.

Bhagavatam 1.3.21 describes Veda Vyas as avatar. He is supposed to be still existing in Himalayas.

Please read Bhagavatam to resolve your doubts.


g a mittal

-----------------------------------------------------------------------------------

आप क्यों भगवान परशुराम और श्री राम को भूल गए? भगवान परशुराम और श्री कृष्ण को भूल गए? 

sayon kk

---------------------------------------------------------------------------------------------------------


HINDI:            http://www.swamiramsukhdasji.org



__._,_.___

Posted by: Sadhak <sadhak_insight@yahoo.com>
Reply via web post Reply to sender Reply to group Start a New Topic Messages in this topic (2)
All past 4925+ messages are accessible and searchable at http://groups.yahoo.com/group/gita-talk/

28,000+ sadhakas

A list of all topics discussed in 2009 along with their links are at http://groups.yahoo.com/group/gita-talk/message/3189

.

__,_._,___

No comments: